Skip to main content

ऐतिहासिक परिपेक्ष्य में जिहाद

द्वारा डैनियल पाइप्सन्यूयार्क सन31 मई, 2005

राइस विश्वविद्यालय के डेविड कुक ने “अन्डर-स्टेंडिंग जिहाद” नाम से एक बहुत अच्छी और बोधगम्य पुस्तक लिखी है .युनिवर्सिटी औफ कैलीफोर्निया प्रेस द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन अभी शीघ्र ही हुआ है ...इस पुस्तक में डेविड कुक ने 11 सितम्बर के पश्चात जिहाद पर आरंभ हुई निचले स्तर की बहस के स्वरुप को निरस्त किया है कि क्या यह एक आक्रामक युद्द पद्धति है या फिर व्यक्ति के नैतिक विकास का प्रकार है...

कुरान मुसलमानों को स्वर्ग के बदले अपनी जान देने को आमंत्रित करता है ..हदीथ , जो कि मोहम्मद के क्रियाकलापों और व्यक्तिगत बयानों का लेखा जोखा है ,कुरान के सिद्दांतो की और अधिक व्याख्या करता है .इसमें संधियों, धन का वितरण , युद्द में प्राप्त सामग्री य़ा पुरस्कार , बंदियों, विभिन्न नीतियों का उल्लेख है ..मुसलिम विधिशास्त्र ने कालांतर में इन व्यावहारिक विषयों को सूत्रबद्ध कर इसे एक कानून का स्वरुप दे दिया ....पैगंबर ने अपने शासनकाल के दौरान औसतन प्रतिवर्ष नौ सैन्य अभियानों में हिस्सा लिया ...अर्थात प्रत्येक पाँच या छ सप्ताह में एक सैन्य अभियान , इस प्रकार अत्यंत आरंभ से जिहाद इस्लाम को परिभाषित करने में सहायक है ...गैर मुसलमानों पर विजय प्राप्त करना और उन्हें अपमानित करना यह पैगंबर के जिहाद का प्रमुख अंग है ...
इस्लाम की प्रारंभिक शताब्दियों मे “जिहाद की व्याख्या निश्चित रुप से आक्रामक और विस्तारवादी रही ” . जब विजय का सिलसिला थम गया साथ ही गैर मुसलमानों को धमकाना कम हो गया तब सैन्य शब्द के समानांतर जिहाद की सूफी अवधारणा विकसित हुई जिसका मतलब था ..आत्म – विकास.
क्रूसेड के माध्यम से पवित्र भूमि पर नियंत्रण स्थापित करने के शताब्दियों के यूरोपियन प्रयास ने जिहाद के नए “शास्त्रीय” सिद्दांत को विकसित करने की आवश्यकता महसूस की .स्वयं को रक्षात्मक मुद्रा में देखकर मुसलमानों ने अपना व्यवहार और अधिक कठोर बना लिया ....
तेरहवीं शताब्दी में मंगोलों के विजय अभियान ने अधिकांश मुस्लिम विश्व को पदाक्रांत कर लिया , यह पीड़ा कुछ मेगेलों द्वारा इस्लाम स्वीकार कर लेने से थोडी मात्रा में कम अवश्य हो गई ...इस दौरान कुछ चिंतक सामने आए जिसमें विशेष रुप से सन् 1328 के इब्न तेमिया शामिल हैं ..जिन्होने सच्चे और झूठे मुसलमान के बीच विभेद करते हुए जिहाद को नया महत्व दिया ..उनके अनुसार जिहाद के संदर्भ में किसी व्यक्ति की प्रामाणिकता इस बात पर निर्भर करती है कि उस व्यक्ति में जिहाद आरंभ करने की इच्छा शक्ति कितनी है ...
19 वीं शताब्दी का “शुद्दीकरण जिहाद ” अनेक क्षेत्रों में साथी मुसलमानों के विरुद्ध ही आरंभ हुआ ...इन सबमें सबसे कट्टर और प्रतिक्रियावादी अरब का वहाबी जिहाद था .इब्न तेमिया से प्रेरणा लेते हुए इन्होनें गैर वहाबी मुसलमानों को काफिर बताकर उनकी निंदा की और उनके विरुद्ध जिहाद छेड़ दिया .
भारत , काकेशस , सोमालिया , सूडान , अल्जीरिया
और मोरक्को जैसे देशों में यूरोपियन साम्राज्यवाद ने जिहादी प्रतिरोध को प्रेरित किया जिससे इन क्षेत्रों में जिहाद असफल रहा .इस आपदा का अर्थ था जिहाद पर नए सिरे से विचार करना .इस्लामवादियों का नया विचार भारत और मिस्र में 1920 में आरंभ हो गया परंतु इसने समकालीन कट्टर आक्रामक युद्ध पद्धति 1966 में मिस्र के विचारक सैयद कुतब के समय में प्राप्त की .कुतब ने इब्न तेमिया की भाँति ही सच्चे और झूठे मुसलमान के मध्य विभेद करते हुए गैर इस्लामवादियों को गैर- मुसलमान करार दिया और उनके विरुद्ध जिहाद घोषित कर दिया . 1981 में अनवर अल सादात की हत्या करने वाले गुट ने एक और विचार जोड़ते हुए जिहाद को विश्व पर नियंत्रण स्थापित करने का एक रास्ता बताया .
अफगानिस्तान में रुस के विरुद्ध हुआ युद्ध जिहाद के अबतक के विकास का अंतिम चरण है . अफगानिस्तान में पहली बार पूरी दुनिया के मुसलमान इस्लाम के नाम पर युद्ध करने के लिए एक जगह एकजुट हुए.1980 में एक फिलीस्तीनी अब्दुल्ला अज्जाम ने वैश्विक जिहाद का विचार दिया .इसके अंतर्गत जिहाद इस्लाम का प्रमुख अंग मानते हुए प्रत्येक मुसलमान के बारे में फैसला जिहाद के बारे में उसकी भूमिका के आधार पर किया गया तथा जिहाद को इस्लाम और मुसलमानों की मुक्ति का मार्ग माना गया. इसी विचार में से समकालीन आतंकवाद और बिन लादेन का जन्म हुआ .
जिहाद की वर्तमान अवधारणा इस्लामिक इतिहास के किसी भी युग की तुलना में कहीं अधिक कट्टर है ..

Comments

ahmad nadeem said…
allah ho akbar ,aaj batil apne kowat aur wasayel ke bayes khud ko khuda samaj baetha hai woh yeh bhool gaya hai ki ,usse pahli bhi namrood aur karoon jo ki dunya me khudai daya kiya taha fana ho gai unaan jo ki wasayel me bhatu jayda taraki ki teh barbaad ho gaya ,aaj batil apni media aur fource ke bal par islam ko badnam karna chahta hai lekin allah ke deen ki shaan hai ki usko jitna bhi dabaya jaye woh utna hi nikhar ke dunia ke samne aata hai jiski meshaal europ ,afreqa me islam ka zoo\roon se fhaelna aur duniya ke badee badee hasteyon ka islam kie dayare me aana
Khan Faisal said…
brother or sister aapne aisa lagta hai maano ki itihaas me kaafee shodh kiya hai. Mashallah aapne jo bhi kiya achcha kiya lekin brother sikke ke ek pehlu ko agar aap dekhoge to adhure reh jaaoge. aapko bata dun ki jihad ka moolbhoot arth yudh karna nahi hai agar aap dictionary utha kar dekhe to aap ko jaankari hogi ki jihad yudh nahi sanghrsh hai. Sangharsh aur yudh me kafee antar hai sangharsh apne adhikaar ke liye kiya jaata hai. apne virudh ho rahe annayay ke liye kiya jaata hai. agar aap daleel dete ho Muhammad (saw) ki to unke prophet banane ke pashchat terah saal tak wo mecca shahar me rahe. sirf rahe nahi balki logo ke pratadnaon ko saha aur Allah par vishwasa rakha. Aisa nahi tha ki tab wo kamzor the unk paas sena thi lekin unhone sabra kiya ye sabra kuch aur nahi balki jihad kaa ek roop hai. iske baad unhone hi kaha ki sabse bada jihad wo hai jo ek manushya apne virudh karta hai apni bhawanao ko marna jo Islam ke khilaf ho bhi jihad kehlata hai. agar annyaay adhik ho to sabra nahi karna chaahiye, uska jawab dena bhi jihad kehlata hai wo chahe hinsak ho yaa ahinsak ho. Agar bharatiya kewal Gandhi ke wichardharao ka palan karta to shayad hi bharat azad hota. apne adhikar ko yadi pana hai to marna hi nahi maarna padta hai lekin aap jaise itihaaskaaro ko kewal ek pehlu dekhne ki aadat hai. Brother or Sister jab sachchai janana chaho to man swachcha hona zaroori hai. aap jis wastu ki khoj ke liye nikalte hain to pehle se ek wichardhara bana lena bewaqufee hai. kisi si kahi hui baato se achcha hai aankhe kholo aur apni sochane ki taqat lagao and Dost Inshallah tala tumhe satya ka pat a chalega. kisi dharm ko samazne ke liye us darma ke duryodhano ka adhyayan karne se sachchai saamne nahi aayegi. Janana chahte ho to Muhammad(saw) ki jeewankatha uthao padho aur fir dekho tum kya paate ho. sirf ek qadam ki doori hai, tum ek qadam badhao sachchai daudte hue tumhaare paas aayegi. tab tum kahoge ki Jihad Yudh nahi crusade war nahi balki apne aap ko sudharne ka ek madhyam hai. Dost utho aur khule man se Islam padho. Aur feer muze reply karo Zaroor mai tumhaari sahayta karoonga. Inshallah tala (Agar khuda chahega)
Khan Faisal said…
brother or sister aapne aisa lagta hai maano ki itihaas me kaafee shodh kiya hai. Mashallah aapne jo bhi kiya achcha kiya lekin brother sikke ke ek pehlu ko agar aap dekhoge to adhure reh jaaoge. aapko bata dun ki jihad ka moolbhoot arth yudh karna nahi hai agar aap dictionary utha kar dekhe to aap ko jaankari hogi ki jihad yudh nahi sanghrsh hai. Sangharsh aur yudh me kafee antar hai sangharsh apne adhikaar ke liye kiya jaata hai. apne virudh ho rahe annayay ke liye kiya jaata hai. agar aap daleel dete ho Muhammad (saw) ki to unke prophet banane ke pashchat terah saal tak wo mecca shahar me rahe. sirf rahe nahi balki logo ke pratadnaon ko saha aur Allah par vishwasa rakha. Aisa nahi tha ki tab wo kamzor the unk paas sena thi lekin unhone sabra kiya ye sabra kuch aur nahi balki jihad kaa ek roop hai. iske baad unhone hi kaha ki sabse bada jihad wo hai jo ek manushya apne virudh karta hai apni bhawanao ko marna jo Islam ke khilaf ho bhi jihad kehlata hai. agar annyaay adhik ho to sabra nahi karna chaahiye, uska jawab dena bhi jihad kehlata hai wo chahe hinsak ho yaa ahinsak ho. Agar bharatiya kewal Gandhi ke wichardharao ka palan karta to shayad hi bharat azad hota. apne adhikar ko yadi pana hai to marna hi nahi maarna padta hai lekin aap jaise itihaaskaaro ko kewal ek pehlu dekhne ki aadat hai. Brother or Sister jab sachchai janana chaho to man swachcha hona zaroori hai. aap jis wastu ki khoj ke liye nikalte hain to pehle se ek wichardhara bana lena bewaqufee hai. kisi si kahi hui baato se achcha hai aankhe kholo aur apni sochane ki taqat lagao and Dost Inshallah tala tumhe satya ka pat a chalega. kisi dharm ko samazne ke liye us darma ke duryodhano ka adhyayan karne se sachchai saamne nahi aayegi. Janana chahte ho to Muhammad(saw) ki jeewankatha uthao padho aur fir dekho tum kya paate ho. sirf ek qadam ki doori hai, tum ek qadam badhao sachchai daudte hue tumhaare paas aayegi. tab tum kahoge ki Jihad Yudh nahi crusade war nahi balki apne aap ko sudharne ka ek madhyam hai. Dost utho aur khule man se Islam padho. Aur feer muze reply karo Zaroor mai tumhaari sahayta karoonga. Inshallah tala (Agar khuda chahega)
Ashfaque said…
ALLAH HO AKBAR,jihad ek vivadit shabd nahi, balke use vivadit banaya gaya.sabne use apne matlab ke liye istamal kiy.maqsad sabhi ka ek he.islam ko badnam karke sasti lokpriyta hasil karna.or ye bada Aasanbhi hai.devid coock unhi logomese hai.sachchai kehnewala ek tarfa bat nahi kehta.ye log apne dharm ko jitna nahi jante utni bakwas islam ke bareme karte he.lekin ab Aadat si hogai ab fark nahi parta. ISLAM wo sona hai jo tapne ke bad hi chamakta hai.
HASNAIN said…
Janab david sahab shayad aapko Ahmed nadeem aur faisal sb ney jo bataya hai vo samajh aa gaya hooga, kyoonki unhoney bahut hi behtar dhang sey aapko jihad ka falsafa bata diyaa hai iskey baad bhi agar aap kutch aur jaana chahtey hain jihad key barey main tou Vaqayat-e-karbala padhiye jahan Imam Husain (a.s) ney apney 72 sathiyoon key sath yazid jaisey zalim aur jabir badhshah key khelaf jihad kiyaa aur apni aur apney 72 sathiyoon ki qurbaani daikar islam key vajood ko bacha liyaa jisey vo maloon tumhari tarah badnaam karnaa chataa tha. agar uskey baad bhi aapko jihaad na samajh main aaye tou samjh laina ki tumharey pait maley haram sey bharey huey hain jiski vajah sey aapk0 haq baat samjh main nah aa sakti hai.
Amiruddin Khan said…
Good one & I believe that if we have to understand a religion jst go through their books like kuran Bible ved upnashid &see what they r preaching & as I study all of them you will get only humaniy as a lesson whatever the book you go through.so I believe that there could be different ways to the same destination. Allah Hafiz
Amiruddin Khan said…
Good one & I believe that if we have to understand a religion jst go through their books like kuran Bible ved upnashid &see what they r preaching & as I study all of them you will get only humaniy as a lesson whatever the book you go through.so I believe that there could be different ways to the same destination. Allah Hafiz
Amiruddin Khan said…
Good one & I believe that if we have to understand a religion jst go through their books like kuran Bible ved upnashid &see what they r preaching & as I study all of them you will get only humaniy as a lesson whatever the book you go through.so I believe that there could be different ways to the same destination. Allah Hafiz

Popular posts from this blog

इसलाम और कुरान पर महापुरुषों के द्वारा दिए वीचार

महर्षि दयानंद सरस्वती :

इस मजहब में अल्लाह और रसूल के वास्ते संसार को लुटवाना और लुट के माल में खुदा को हिस्सेदार बनाना लुटेरों का काम है, जो मुस्लमान नहीं बनते उन लोगो को मरना और बदले में बहिश्त को पाना आदि पक्षपात की बाते इश्वर की नहीं हो सकती, श्रेष्ठ ग़ैर मुसलमानो से शत्रुता और दुस्त मुसलमानो से मित्रता जन्नत में अनेक लौंडे होना आदि निन्दित उपदेश कुएं में डालने योग्य हैं, अनेक स्त्रियों को रखने वाले मुहम्मद साहेब निर्दयी, राक्षस व विषयासक्त मनुष्य थे, और इसलाम से अधिक अशांति फ़ैलाने वाला दुस्त मत और दुसरा कोई नहीं, इसलाम मत की मुख्य पुस्तक कुरान पर हमारा यह लेख हठ, दुराग्रह, इर्ष्या-द्वेष, वाद विवाद और विरोध घटने के लिए लिखा गया, न की इनको बढ़ने के लिए सब सज्जनो के सामने रखने का उद्देश्य अच्छाई को ग्रहन करना और बुरे को त्यागना है.



गुरू राम दास जी :-

छत्रपति शिवाजी महाराज के गुरू अपने "ग्रंथ-दास बोध" में लिखते हैं की मुस्लमान शासको द्वारा कुरान के अनुसार काफ़िर हिंदु नारियों से बलात्कार किये गए जिससे दुःखी होकर अनेकों ने आत्महत्या कर ली, मुस्लमान न बनने पर अनेक क़त्ल किये और…

एक युद्ध जो आदि काल से चला आ रहा है

यह एक ऐसा युद्ध है जो हजारों वर्षो से निरंतर चला आ रहा है जो की ख़तम होने का नाम ही नहीं लेता है, कारण सिर्फ इतना है की हम हिन्दू कुछ ज्यादा ही शांत प्रवृति के होते हैं हम किसी को जल्द अपना दुश्मन नहीं मानते और सिर्फ अपने मै मस्त रहते हैं जिसके कारण हमने कभी आज़ादी की सांस ली ही नहीं कभी अफगानी लुटेरों के शिकार होते रहे और उनके मुग़ल साम्राज्य को स्थापित होने दिया परिणाम स्वरुप हमें हजारों साल तक युद्ध करते रहे और अनेको महान वीरों गुरु तेग बहादुर, गुरु गोबिंद सिंह, महाराणा प्रताप, महाराज रंजीत सिंह, वीर शिवाजी जैसे अशंख्य वीरों की कुर्वानी के बाद हम मुग़लों का तख्ता पलट करने में कामयाब हो सके और हमें मुगलों के जुल्म से आज़ादी मिली लेकिन हम अपनी आज़ादी को चंद दिन भी कायम नहीं रख सके और अंग्रेजों की गुलामी को स्वीकार कर लिया फिर एक लम्बा संघर्ष अंग्रेजो से छीर गया सन् १८५७ के ग़दर से लेकर १९४७ तक के आज़ादी संग्राम में फिर से हमने अपने लाखों वीरों को खोया, अभी हम ठीक से आज़ादी मिलने की ख़ुशी भी नहीं मना पाए थे की फिर कुछ लोगो के दिल में हिन्दुस्तान की आज़ादी खटक गयी और उन्होने एक अलग से मुस्लि…