Skip to main content

हमला या साजिश












अमरनाथ दर्शन के लिए घाटी पहुचे जयपूर के श्रधालुओ पर मंगलवार को उपद्रवियों ने हमला किया हमला श्रीनगर से अनंतनाग के बीच दो बार वहां के लोगो द्वारा किया गया जिसमे दर्जन बसों के शीशे टूट गए और कई यात्री घायल हुए, जयपुर से १७५१ यात्री गए हुए थे जिन्हें अब रस्ते में रोका गया है जिससे उन्हें भारी परेशानी का सामना करना पर रहा है, घायल यात्रियों अस्पताल में भर्ती करवाया गया है , यात्रियों ने समाचारपत्रों को फ़ोन पर बताया की उन्हें अभी तक कोई संतोषजनक जबाब नहीं मिला है , प्रशासन की तरफ से किसी प्रकार की व्यवस्था नहीं की गयी है यात्रियों को आईजी, डीआईजी या अन्य अधिकारियो से मिलने नहीं दिया गया है।

अमरनाथ यात्रियों पर आज ये कोई पहला हमला नहीं है इससे पहले भी हमले होते रहे है

हमलो का एक संक्षिप्त व्योरा यहाँ दिया जा रहा है :-



  • वर्ष २००८ में अमरनाथ श्राइन बोर्ड को आवंटित की जाने वाली भूमि के मसले पर जगह जगह हमले हुए थे जिसमे कई पर्यटक तथा यात्री घायल हुए थेऔर कई लोगो की मृत्यु हुयी थी ।


  • २५/०७/२००८ को अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों पर हथगोलों से हमला हुआ जिसमे ५ लोगो की मौत तथा कई लोग घायल हो गये थे ।


  • २१/०७/२००८ अमरनाथ तीर्थ यात्रियों पर ग्रेनेड से हमला जिसमे १० घायल, घायलों में अधिकांश साधू थे यह इस हपते में यात्रियों पर दूसरा हमला था।
    २२/७/२००७ अमरनाथ यात्रियों पर हथगोलों से हमला ८ साधुओ समेत १५ लोग जख्मी हो गये ।

  • ३०/७/२००२ अमरनाथ जा रहे तीर्थयात्रियो पर हमला किया गया जीमे दो की मृत्यु हो गयी तथा अन्य कई लोग घायल हो गये ।

  • 0६/०८/२००२ अमरनाथ यात्रियों और इसाई स्कुलो पर किये जा रहे हमलो की अमेरिका और ब्रिटेन ने निंदा किया ।


और भी कई हमले जो की हर साल अमरनाथ यात्रियों पर होते रहे हैं ।




इसके अलावा अमरनाथ यात्रियों और लंगर समितियों से जजिया टैक्स बसूला जा रहा है हर बस, ट्रक से २८००/- प्रतिदिन और हलके वाहनों से २३००/- प्रतिदिन के हिसाब से लिया जा रहा है । तथा हर लंगर समिति से २५०००/- रुपये लिया जा रहा है जबकि उनके लंगर लगाने वाले जगह को कम कर दिया गया है । इसके अलावा घाटी में घुसने पर अलग अलग स्थानों पर एंट्री फीस अलग से देना परता है ।




इधर भारत सरकार हजारो लाख रुपये हज यात्रियों को सब्सिडी देती रही है ।




आखिर यह सब क्या है ? क्यों बनाया जा रहा है हर वर्ष अमरनाथ यात्रियों को निशाना ? जबकि इसी हिन्दुस्थान में येही हिन्दू हज यात्रियों को अपने दिए गये टैक्स में से दी जा रही सब्सिडी के खिलाफ कोई आवाज नहीं उठाती बल्कि मुस्लिम हज यात्रियों का स्वागत करके विदा करती है । तो फिर क्यों नहीं कोई मुस्लमान अमरनाथ यात्रियों पर हमला करने वाले अपने मुस्लमान भाइयो को रोकता है ? कही से कोई आवाज़ नहीं उठती है आखिर क्यों ? क्या साम्प्रदायिक सद्भाव सिर्फ हिन्दुओ को ही चाहिए ?




मुस्लमान हिन्दू से हर कार्य को उल्टा करते हैं जैसे अगर हिन्दू दक्षिण को अपवित्र मानते हैं तो मुस्लिम उसे पवित्र मानते हैं। हिन्दू सीधे हाथ धोते हैं तो मुस्लिम उल्टा हाथ धोते हैं । हिन्दू गौ को अपनी माँ के सामान पूजते हैं तो मुस्लिम गौकशी करते हैं। हिन्दू अगर अपनी मातृभूमि की जय वन्देमातरम बोलते हैं तो मुस्लिमो को वन्देमातरम से परहेज है और वो इसके खिलाफ फतवा जरी करते हैं । हिन्दू तो मुहर्रम और ईद में सम्मिलित होते हैं लेकिन कोई मुस्लिम उनके त्यौहार नवरात्री या दीपावली में सम्मिलित नहीं होता बल्कि ऐसे त्योहारों ब्लास्ट कर देते हैं, हिन्दुओ (काफिरों) के खिलाफ जेहाद का आवाहन करते हैं इससे क्या साबित होता है ?

आखिर क्यों हम एकतरफा ताली बजाते रहे अगर भाईचारा चाहिए तो क्या इसके लिए हिर्फ़ हिन्दू ही हमेशा अपनी स्वाभिमान को ताक पर रख कर हाथ बढ़ाये क्या मुस्लिमो का कोई फ़र्ज़ नहीं बनता ?

अमरनाथ यात्रियों पर हमले, हिन्दू मंदिरों में हमले, हिन्दुओ के तीज त्योहारों में हमले, गौकशी के द्वारा हिन्दुओ के अस्मिता पर हमला क्या यह साबित नहीं करता की हिन्दुओ के खिलाफ उनके अपने ही देश में उनके अपने ही तथाकथित भाइयो के द्वारा साजिश किया जा रहा है, यह साजिश नहीं तो और क्या है ?



वन्देमातरम








Comments

AZAD said…
This comment has been removed by the author.

Popular posts from this blog

ऐतिहासिक परिपेक्ष्य में जिहाद

द्वारा डैनियल पाइप्सन्यूयार्क सन31 मई, 2005

राइस विश्वविद्यालय के डेविड कुक ने “अन्डर-स्टेंडिंग जिहाद” नाम से एक बहुत अच्छी और बोधगम्य पुस्तक लिखी है .युनिवर्सिटी औफ कैलीफोर्निया प्रेस द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन अभी शीघ्र ही हुआ है ...इस पुस्तक में डेविड कुक ने 11 सितम्बर के पश्चात जिहाद पर आरंभ हुई निचले स्तर की बहस के स्वरुप को निरस्त किया है कि क्या यह एक आक्रामक युद्द पद्धति है या फिर व्यक्ति के नैतिक विकास का प्रकार है...

कुरान मुसलमानों को स्वर्ग के बदले अपनी जान देने को आमंत्रित करता है ..हदीथ , जो कि मोहम्मद के क्रियाकलापों और व्यक्तिगत बयानों का लेखा जोखा है ,कुरान के सिद्दांतो की और अधिक व्याख्या करता है .इसमें संधियों, धन का वितरण , युद्द में प्राप्त सामग्री य़ा पुरस्कार , बंदियों, विभिन्न नीतियों का उल्लेख है ..मुसलिम विधिशास्त्र ने कालांतर में इन व्यावहारिक विषयों को सूत्रबद्ध कर इसे एक कानून का स्वरुप दे दिया ....पैगंबर ने अपने शासनकाल के दौरान औसतन प्रतिवर्ष नौ सैन्य अभियानों में हिस्सा लिया ...अर्थात प्रत्येक पाँच या छ सप्ताह में एक सैन्य अभियान , इस प्रकार अत्यं…

इसलाम और कुरान पर महापुरुषों के द्वारा दिए वीचार

महर्षि दयानंद सरस्वती :

इस मजहब में अल्लाह और रसूल के वास्ते संसार को लुटवाना और लुट के माल में खुदा को हिस्सेदार बनाना लुटेरों का काम है, जो मुस्लमान नहीं बनते उन लोगो को मरना और बदले में बहिश्त को पाना आदि पक्षपात की बाते इश्वर की नहीं हो सकती, श्रेष्ठ ग़ैर मुसलमानो से शत्रुता और दुस्त मुसलमानो से मित्रता जन्नत में अनेक लौंडे होना आदि निन्दित उपदेश कुएं में डालने योग्य हैं, अनेक स्त्रियों को रखने वाले मुहम्मद साहेब निर्दयी, राक्षस व विषयासक्त मनुष्य थे, और इसलाम से अधिक अशांति फ़ैलाने वाला दुस्त मत और दुसरा कोई नहीं, इसलाम मत की मुख्य पुस्तक कुरान पर हमारा यह लेख हठ, दुराग्रह, इर्ष्या-द्वेष, वाद विवाद और विरोध घटने के लिए लिखा गया, न की इनको बढ़ने के लिए सब सज्जनो के सामने रखने का उद्देश्य अच्छाई को ग्रहन करना और बुरे को त्यागना है.



गुरू राम दास जी :-

छत्रपति शिवाजी महाराज के गुरू अपने "ग्रंथ-दास बोध" में लिखते हैं की मुस्लमान शासको द्वारा कुरान के अनुसार काफ़िर हिंदु नारियों से बलात्कार किये गए जिससे दुःखी होकर अनेकों ने आत्महत्या कर ली, मुस्लमान न बनने पर अनेक क़त्ल किये और…

एक युद्ध जो आदि काल से चला आ रहा है

यह एक ऐसा युद्ध है जो हजारों वर्षो से निरंतर चला आ रहा है जो की ख़तम होने का नाम ही नहीं लेता है, कारण सिर्फ इतना है की हम हिन्दू कुछ ज्यादा ही शांत प्रवृति के होते हैं हम किसी को जल्द अपना दुश्मन नहीं मानते और सिर्फ अपने मै मस्त रहते हैं जिसके कारण हमने कभी आज़ादी की सांस ली ही नहीं कभी अफगानी लुटेरों के शिकार होते रहे और उनके मुग़ल साम्राज्य को स्थापित होने दिया परिणाम स्वरुप हमें हजारों साल तक युद्ध करते रहे और अनेको महान वीरों गुरु तेग बहादुर, गुरु गोबिंद सिंह, महाराणा प्रताप, महाराज रंजीत सिंह, वीर शिवाजी जैसे अशंख्य वीरों की कुर्वानी के बाद हम मुग़लों का तख्ता पलट करने में कामयाब हो सके और हमें मुगलों के जुल्म से आज़ादी मिली लेकिन हम अपनी आज़ादी को चंद दिन भी कायम नहीं रख सके और अंग्रेजों की गुलामी को स्वीकार कर लिया फिर एक लम्बा संघर्ष अंग्रेजो से छीर गया सन् १८५७ के ग़दर से लेकर १९४७ तक के आज़ादी संग्राम में फिर से हमने अपने लाखों वीरों को खोया, अभी हम ठीक से आज़ादी मिलने की ख़ुशी भी नहीं मना पाए थे की फिर कुछ लोगो के दिल में हिन्दुस्तान की आज़ादी खटक गयी और उन्होने एक अलग से मुस्लि…